शिव उपासनांतर्गत पिंडी की पूजा

0

स्नान

शंकरजी की पिंडी को ठंडे जल, दूध एवं पंचामृत से स्नान कराते हैं । (चौदहवीं शताब्दी से पूर्व शंकरजी की पिंडी को केवल जल से स्नान करवाया जाता था; दूध एवं पंचामृत से नहीं । दूध एवं घी ‘स्थिति’के प्रतीक हैं, इसलिए ‘लय’ के देवता शंकरजी की पूजा में उनका उपयोग नहीं किया जाता था । चौदहवीं शताब्दी में दूध को शक्ति का प्रतीक मानकर शैवों ने भी वैष्णव उपासना में प्रचलित पंचामृतस्नान, दुग्धस्नान इत्यादि अपनाए ।)

हलदी एवं कुमकुम निषिद्ध

पिंडी पर हलदी एवं कुमकुम न चढाने का कारण आगे दिए अनुसार है । हलदी मिट्टी में उपजती है एवं उर्वर धरती अर्थात उत्पत्ति का वह प्रतीक है । कुमकुम भी हलदी से ही बनता है, इसलिए वह भी उत्पत्ति का ही प्रतीक है । चूंकि शिवजी ‘लय ’के देवता हैं, इसीलिए ‘उत्पत्ति’ के प्रतीक हलदी-कुमकुम का प्रयोग शिवपूजन में नहीं किया जाता । भस्म इसलिए लगाते हैं, क्योंकि वह लय का द्योतक है ।

भस्म

पिंडी के दर्शनीय ओर से भस्म की तीन समानांतर धारियां बनाते हैं अथवा फिर समांतर धारियां खींचकर उन पर मध्य में एक वृत्त बनाते हैं, जिसे शिवाक्ष कहते हैं  ।

अक्षत

पिंडी का पूजन करते समय श्वेत अक्षत का प्रयोग आगे दिए गए कारणों से उचित होता है । श्वेत अक्षत वैराग्य के, अर्थात निष्काम साधना के द्योतक हैं । श्वेत अक्षत की ओर निर्गुण से संबंधित मूल उच्च देवताओं की तरंगें आकर्षित होती हैं । शंकर एक उच्च देवता हैं और वह अधिकाधिक निर्गुण से संबंधित हैं, इसलिए श्वेत अक्षत पिंडी के पूजन में प्रयुक्त होने से शिवतत्त्व का अधिक लाभ मिलता है ।

पुष्प

धतूरा, श्वेत कमल, श्वेत कनेर, चमेली, मदार, नागचंपा, पुंनाग, नागकेसर, रजनीगंधा, जाही, जूही, मोगरा तथा श्वेत पुष्प शिवजी को चढाएं । (शिवजी को केतकी, केवडा वर्जित हैं, इसलिए न चढाएं । केवल महाशिवरात्रि के दिन चढाएं ।)

बेल

बिल्वपत्र को औंधे रख और उसके डंठल को अपनी ओर कर पिंडी पर चढाते हैं ।

त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रंच त्रयायुधम् ।
त्रिजन्मपापसंहारं एकबिल्वं शिवार्पणम् ।। – बिल्वाष्टक, श्लोक १

अर्थ : त्रिदल (तीन पत्र) युक्त, त्रिगुण के समान, तीन नेत्रों के समान, तीन आयुधों के समान एवं तीन जन्मों के पाप नष्ट करनेवाला यह बिल्वपत्र, मैं शंकरजी को अर्पित करता हूं ।

जल की धारा

पिंडी में शिव-शक्ति एकत्रित होने के कारण प्रचंड ऊर्जा उत्पन्न होती है । इस ऊर्जा का पिंडी के कणों पर एवं दर्शनार्थियों पर कोई प्रतिकूल परिणाम न हो, इसलिए पिंडी पर निरंतर पानी की धारा पडती रहनी चाहिए । पानी की इस धारा से खर्ज स्वर में सूक्ष्म ओंकार (, निर्गुण ब्रह्म का वाचक) उत्पन्न होता है । वैसे ही मंत्र की निरंतर धार पडते रहने से कालपिंड खुल जाता है, अर्थात जीव निर्गुण ब्रह्मतक पहुंच जाता है ।

Share.

About Author

Comments are closed.