भगवान शिव के 108 नाम

0

हिन्दू धर्म में शिवजी को त्रिदेवों में एक माना जाता है। शिवजी की कल्पना एक ऐसे देव के रूप में की जाती है जो कभी  संहारक तो कभी पालक होते हैं। भस्म, नाग, मृग चर्म, रुद्राक्ष आदि भगवान शिव की वेष- भूषा व आभूषण हैं। इन्हें संहार का  देव भी माना गया है। भगवान शिव, ज्योतिष शास्त्र व वारों (दिनों) के रचयिता भी हैं। भगवान शिव की उपासना मूर्ति व  शिवलिंग रूप में की जाती है।

शिव के कई रूप हैं, इन रूपों के नाम भी अलग-अलग हैं। शिवजी के विभिन्न नामों में से मुख्य 108 नाम निम्न हैं :

  1. शिव – कल्याण स्वरूप
  2. महेश्वर – माया के अधीश्वर
  3. शम्भू – आनंद स्स्वरूप वाले
  4. पिनाकीपिनाक धनुष धारण करने वाले
  5. शशिशेखरसिर पर चंद्रमा धारण करने वाले
  6. वामदेवअत्यंत सुंदर स्वरूप वाले
  7. विरूपाक्षभौंडी आँख वाले
  8. कपर्दीजटाजूट धारण करने वाले
  9. नीललोहितनीले और लाल रंग वाले
  10. शंकरसबका कल्याण करने वाले
  11. शूलपाणीहाथ में त्रिशूल धारण करने वाले
  12. खटवांगीखटिया का एक पाया रखने वाले
  13. विष्णुवल्लभभगवान विष्णु के अतिप्रेमी
  14. शिपिविष्टसितुहा में प्रवेश करने वाले
  15. अंबिकानाथभगवति के पति
  16. श्रीकण्ठसुंदर कण्ठ वाले
  17. भक्तवत्सलभक्तों को अत्यंत स्नेह करने वाले
  18. भवसंसार के रूप में प्रकट होने वाले
  19. शर्वकष्टों को नष्ट करने वाले
  20. त्रिलोकेशतीनों लोकों के स्वामी
  21. शितिकण्ठसफेद कण्ठ वाले
  22. शिवाप्रियपार्वती के प्रिय
  23. उग्रअत्यंत उग्र रूप वाले
  24. कपालीकपाल धारण करने वाले
  25. कामारीकामदेव के शत्रु
  26. अंधकारसुरसूदनअंधक दैत्य को मारने वाले
  27. गंगाधरगंगा जी को धारण करने वाले
  28. ललाटाक्षललाट में आँख वाले
  29. कालकालकाल के भी काल
  30. कृपानिधिकरूणा की खान
  31. भीमभयंकर रूप वाले
  32. परशुहस्तहाथ में फरसा धारण करने वाले
  33. मृगपाणीहाथ में हिरण धारण करने वाले
  34. जटाधरजटा रखने वाले
  35. कैलाशवासीकैलाश के निवासी
  36. कवचीकवच धारण करने वाले
  37. कठोरअत्यन्त मजबूत देह वाले
  38. त्रिपुरांतकत्रिपुरासुर को मारने वाले
  39. वृषांकबैल के चिह्न वाली झंडा वाले
  40. वृषभारूढ़बैल की सवारी वाले
  41. भस्मोद्धूलितविग्रहसारे शरीर में भस्म लगाने वाले
  42. सामप्रियसामगान से प्रेम करने वाले
  43. स्वरमयीसातों स्वरों में निवास करने वाले
  44. त्रयीमूर्तिवेदरूपी विग्रह करने वाले
  45. अनीश्वरजिसका और कोई मालिक नहीं है
  46. सर्वज्ञ सब कुछ जानने वाले
  47. परमात्मासबका अपना आपा
  48. सोमसूर्याग्निलोचनचंद्र, सूर्य और अग्निरूपी आँख वाले
  49. हविआहूति रूपी द्रव्य वाले
  50. यज्ञमययज्ञस्वरूप वाले
  51. सोमउमा के सहित रूप वाले
  52. पंचवक्त्रपांच मुख वाले
  53. सदाशिवनित्य कल्याण रूप वाले
  54. विश्वेश्वरसारे विश्व के ईश्वर
  55. वीरभद्रबहादुर होते हुए भी शांत रूप वाले
  56. गणनाथगणों के स्वामी
  57. प्रजापतिप्रजाओं का पालन करने वाले
  58. हिरण्यरेतास्वर्ण तेज वाले
  59. दुर्धुर्षकिसी से नहीं दबने वाले
  60. गिरीशपहाड़ों के मालिक
  61. गिरिशकैलाश पर्वत पर सोने वाले
  62. अनघपापरहित
  63. भुजंगभूषण साँप के आभूषण वाले
  64. भर्ग पापों को भूंज देने वाले
  65. गिरिधन्वामेरू पर्वत को धनुष बनाने वाले
  66. गिरिप्रियपर्वत प्रेमी
  67. कृत्तिवासागजचर्म पहनने वाले
  68. पुरारातिपुरों का नाश करने वाले
  69. भगवान्सर्वसमर्थ षड्ऐश्वर्य संपन्न
  70. प्रमथाधिपप्रमथगणों के अधिपति
  71. मृत्युंजयमृत्यु को जीतने वाले
  72. सूक्ष्मतनुसूक्ष्म शरीर वाले
  73. जगद्व्यापीजगत् में व्याप्त होकर रहने वाले
  74. जगद्गुरूजगत् के गुरू
  75. व्योमकेशआकाश रूपी बाल वाले
  76. महासेनजनककार्तिकेय के पिता
  77. चारुविक्रमसुन्दर पराक्रम वाले
  78. रूद्रभक्तों के दुख देखकर रोने वाले
  79. भूतपतिभूतप्रेत या पंचभूतों के स्वामी
  80. स्थाणुस्पंदन रहित कूटस्थ रूप वाले
  81. अहिर्बुध्न्यकुण्डलिनी को धारण करने वाले
  82. दिगम्बरनग्न, आकाशरूपी वस्त्र वाले
  83. अष्टमूर्तिआठ रूप वाले
  84. अनेकात्माअनेक रूप धारण करने वाले
  85. सात्त्विकसत्व गुण वाले
  86. शुद्धविग्रहशुद्धमूर्ति वाले
  87. शाश्वतनित्य रहने वाले
  88. खण्डपरशुटूटा हुआ फरसा धारण करने वाले
  89. अजजन्म रहित
  90. पाशविमोचनबंधन से छुड़ाने वाले
  91. मृडसुखस्वरूप वाले
  92. पशुपतिपशुओं के मालिक
  93. देवस्वयं प्रकाश रूप
  94. महादेवदेवों के भी देव
  95. अव्ययखर्च होने पर भी न घटने वाले
  96. हरि विष्णुस्वरूप
  97. पूषदन्तभित्पूषा के दांत उखाड़ने वाले
  98. अव्यग्रकभी भी व्यथित न होने वाले
  99. दक्षाध्वरहरदक्ष के यज्ञ को नष्ट करने वाले
  100. हरपापों व तापों को हरने वाले
  101. भगनेत्रभिद्भग देवता की आंख फोड़ने वाले
  102. अव्यक्तइंद्रियों के सामने प्रकट न होने वाले
  103. सहस्राक्षअनंत आँख वाले
  104. सहस्रपादअनंत पैर वाले
  105. अपवर्गप्रदकैवल्य मोक्ष देने वाले
  106. अनंतदेशकालवस्तुरूपी परिछेद से रहित
  107. तारकसबको तारने वाला
  108. परमेश्वरसबसे परे ईश्वर

Share.

About Author

Comments are closed.